Browse songs by

yahii aarazuu thii dil kii ki qariib yaar hotaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


यही आरज़ू थी दिल की कि क़रीब यार होता
और हज़ार जाँ से क़ुरबाँ मैं हज़ार बार होता

न सही अगर नहीं था बुत-ए-बेवफ़ा पे क़ाबू
यही बस था मेरे बस में दिल-ए-बेक़रार होता

जो पिलाना था पिलाता कोई ऐसी मय ऐ साक़ी
जिसे पी के ताब महशर न मैं होशियार होता

हर एक आफ़तों का करता मैं ख़ुशी से ख़ैर-मक़दम
मैं अलम को भूल जाता जो तू ग़मगुसार होता

तुझे लुत्फ़-ए-दीद मिलता मुझे लुत्फ़-ए-मर्ग क़ातिल
मैं हमेशा मरता रहता कोई ऐसा वार करता

Comments/Credits:

			 % Credits: This lyrics were printed in Listeners' Bulletin Vol #21 under Geetanjali #11
%	sent by Ateeq Ahmed Siddiqi, Hyderabad
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image