Browse songs by

ye faasalaa jo pa.Daa hai mere Gumaa.N me.n na thaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ये फ़ासला जो पड़ा है मेरे ग़ुमाँ में न था
के अबकी बार ज़माना भी दर्मियाँ में न था

कोई भी नज़्म-ए-चमन हो ये हमने देखा है
सहर का नग़्मा-सरा शाम-ए-आशियाँ में न था

के जिसके हाथ में पत्थर कमाँ में तीर न हो
कोई भी ऐसा मेरे शहर-ए-मेहबरबाँ में न था

दुआएं मैंने ही माँगी थीं रुत बदलने की
'फ़राज़' मेरा नशेमन ही गुलसिताँ में न था

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image