Browse songs by

tere ho.nTho.n ko terii laalii ko tere yauvan kii hariyaalii ko

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


(तेरे होंठों को, तेरी लाली को,
तेरे यौवन की हरियाली को)-२
(तेरी अन्गडाई में मिलादूँ)-२
बोलो तो गीत बनादूँ
तेरे होंठों को, तेरी लाली को,
तेरे यौवन की हरियाली को

ज़ुल्फ़ों के आवारा दामन में
तेरे अंग अंग के दरशन में
तेरे मन के कोरे दरपण में
(अपनी तसवीर सजादूँ)-२
बोलो तो गीत बनादूँ
तेरे होंठों को, तेरी लाली को,
तेरे यौवन की हरियाली को

पलकों के तिरछे कोने को तेरे रूप के मस्त खिलौने को
तेरे गहरीले रंग सलोने को इक ऐसी गिरह लगा दूँ
बोलो तो गीत बना ...

(बिंदिया की चंचल चितवन से)-२
बाहों पे खनकते कंगन से
पायल की चनकती थन्थन से
(अपनी आवाज़ मिलादूँ)-२
बोलो तो गीत बनादूँ
तेरे होंठों को, तेरी लाली को,
तेरे यौवन की हरियाली को

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Srinivas Ganti
% Date: Nov 19, 2002
% Credits: Second stanza provided by V S Rawat
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image