Browse songs by

raato.n kii nii.nd chhiin lii aa.Nkho.n ke i.ntezaar ne

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


रातों की नींद छीन ली
आँखों के इंतेज़ार ने -२
तारों का ...
तारों का दिल खिला दिया
इस दिल-ए-बेकरार ने -२

सहमी हुई का ???
सहमी हुई कली हँसी
कहने लगी ये खौर ??? से -२
जिसके लिए खिली जिया
वो ख़ौफ़ सी बहार ने -२

दिल पे तो नाज़ था हमें -२
घूँट लहू के पी गया -२
किस्सा-ए-ग़म सुना दिया
दीदा-ए-इश्क़ बार ??? ने -२

रातों की नींद छीन ली
आँखों के इंतेज़ार ने -२

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar 
% Date: 08/01/1996
% Credits: Neeraj Malhotra 
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image