Browse songs by

prem kii ho jay\-jay jiiwan hai ab sukhamay

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


( प्रेम की हो जय-जय
जीवन है अब सुखमय
भाग ओ आओ जग खोया गन पाया ) -२

( आशा के फूल खिले
हिरदय से हिरदय मिले ) -२
एक है प्रान दो काया -२

उ : ( ब्योग की रात की भोर भई फिर
सुर्य ने दीप दिखाया ) -२

मिलन का शुभ दिन आया -२

( प्रेम ने मन की गंगा-जमुना को
सुख-संगम पे मिलाया ) -२
( धन्य-धन्य वो रचना जिसने
प्रेम का नित गुन गाया ) -२

प्रेम की हो जय-जय
जीवन है अब सुखमय
भाग ओ आओ जग खोया गन पाया

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image