Browse songs by

phir tiir\-e\-nazar se chhed jigar

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


फिर तीर-ए-नज़र से छेद जिगर फिर आँख मिला बिस्मिल कर दे
जी भर के तड़प लूँ दर्द उठे इतना तो करम क़ातिल कर दे

हो ख़ैर तेरे मैख़ाने की तौक़ीर बढ़े पैमाने की
ओ मस्त नज़र वाले साक़ी मस्ती भर दे गाफ़िल कर दे

Comments/Credits:

			 % Credits: This lyrics were printed in Listeners' Bulletin Vol #70 under Geetanjali #60
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image