Browse songs by

o praaNii kyaa soche kyaa ho_e

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ओ प्राणी क्या सोचे क्या होए
भाग्य के हैं खेल निराले पल जागे पल सोए
ओ प्राणी क्या सोचे ...

किन चाहों से बाग़ लगाए
आशाओं के दीप जलाए
हँसने के सामान बनाए
पास खड़ा फिर रोए
क्या सोचे क्या होए -२
ओ प्राणी क्या सोचे ...

माटी का इक दीया जले आँधी बढ़ती जाए
छलनी सी ओढ़नी कब तक इसे बचाए
जो होए सो होए तेरी पेश न जाने कोए
क्या सोचे क्या होए -२
ओ प्राणी क्या सोचे ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image