Browse songs by

kuchh Kushbue.n ... jiine ke ishaare mil gaye

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


कुछ ख़ुश्बुएं यादों के जंगल से उड़ चलीं
कुछ खिड़कियाँ लम्हों की दस्तक पे खुल गईं
कुछ गीत पुराने रक्खे थे सिरहाने
कुछ सुर कहीं खोए थे बन्दिश मिल गई
जीने के इशारे मिल गए
बिछड़े थे किनारे मिल गए
ओ~~ ...
(जीने के इशारे मिल गए
बिछड़े थे किनारे मिल गए) - २

मेरी ज़िन्दगी में तेरी बारिश क्या हुई
मेरे रास्ते दरिया बने बहने लगे
मेरी करवटों को तूने आके क्या चुआ
कई ख़्वाब नींदों की गली रहने लगे
(जीने के इशारे मिल गए
बिछड़े थे किनारे मिल गए) - २

मेरी लौ हवाओं से झगड़कर जी उठी
मेरे हर अँधेरे को उजाले पी गए
तूने हँसके मुझसे मुस्कुराने को कहा
मेरे मन के मौसम गुलमोहर से हो गए
(जीने के इशारे मिल गए
बिछड़े थे किनारे मिल गए) - २

कुछ ख़ुश्बुएं साँसों से साँसों में घुल गईं
कुछ खिड़कियाँ आँखों ही आँखों में खुल गईं
कुछ प्यास अधूरी, कुछ शाम सिंदूरी
कुछ रेशमी गुनाहों में रातें ढल गईं
जीने के इशारे मिल गए
बिछड़े थे किनारे मिल गए
ओ~~ ...
जीने के इशारे मिल गए
(बिचड़े थे किनारे मिल गए) - २

(जीने के इशारे मिल गए
बिछड़े थे किनारे मिल गए) - ९

Comments/Credits:

			 % Contributor: U V Ravindra
% Transliterator: U.V. Ravindra
% Date: 22 May 2005
% Series: GEETanjali
% generated using www.giitaayan.com
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image