Browse songs by

jagat me.n prem hii prem bharaa hai

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


जगत में प्रेम ही प्रेम भरा है -२
बिना प्रेम यहाँ कछु न धरा है -२
जगत में प्रेम ही प्रेम भरा है -२

शीतल पवन चलत जब यारी -२
झूम के गावत डाली-डाली -२
जगत में प्रेम ही प्रेम भरा है -२

कोयल बन में शोर मचावे -२
मीठे गीत पपीहा गावे
कोयल बन में शोर मचावे
मीठे गीत पपीहा गावे
भौरा फूलों को समझावे -३
जगत में प्रेम ही प्रेम भरा है -२

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image