Browse songs by

haT ga_ii lo kaalii ghaTaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


हट गई लो काली घटा
छिटक रहे तारे (२)
हट गई लो काली घटा
छिटक रहे तारे (२)

मन की उमंग तरज खड़ी अखियन की ज्योत बढ़ी (२)
प्रेम लगन से लौ उठी (२)
बुझे दिये बारे
हट गई लो काली घटा
छिटक रहे तारे (२)

डूबी आस फिर से फिरी जल में जैसे जल की परी (२)
सोती ज्योत जाग गई, जाग गई
सोती ज्योत जाग गई
दिन फिरे हमारे
हट गई लो काली घटा
छिटक रहे तारे (२)

आजा आजा आजा मेरे पास
तन-मन-धन सब की आस
डगर पार पात-पात करती क्यों इशारे (२)
हट गई लो काली घटा
छिटक रहे तारे (२)

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image