Browse songs by

haath siine pe jo rakh do to qaraar aa jaae

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ग: हाथ सीने पे जो रख दो तो क़रार आ जाए -२
दिल के उजड़े हुए गुल्शन में बहार आ जाए -२

न: दिल तो कहता है कि आँखों में छुपा लूँ तुझको -२
डर यही है कि मुक़द्दर को नकार आ जाए -२
ग: हाथ सीने पे जो रख दो तो क़रार आ जाए

ग: दिल के ज़ख्मों पे मेरे प्यार का मर्हम रख दो -२
बेक़रारी तो मुझे कुछ तो क़रार आ जाए -२
हाथ सीने पे जो रख दो तो क़रार आ जाए

न: यूँ ख़ुदा के लिए छीनो न मेरे होश-ओ-हवास -२
ऐसी नज़रों से न देखो कि ख़ुमार आ जाए
ग: हाथ सीने पे जो रख दो तो क़रार आ जाए

ग: छोड़ के तुम भी चले जाओगी क़िस्मत की तरह -२
बाद-अज़ाने तो अजल ही को न प्यार आ जाए -२

हाथ सीने पे जो रख दो तो क़रार आ जाए
दिल के उजड़े हुए गुल्शन में बहार आ जाए

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar  
% Date: 07/16/1995
% Credits: Ashok Dhareshwar 
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image