Browse songs by

zi.ndagii dii thii jo ... ye aarazuu thii kabhii ham bahaar dekhe.nge

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ज़िंदगी दी थी जो जीने का मज़ा क्यूँ न दिया

मेरी क़िसमत में ये आराम क्यूँ न दिया
क्यूँ न दिया

ये आरज़ू थी कभी हम बहार देखेंगे -२
किसे पता था ख़िज़ाँ बार बार देखेंगे

करार पा के भी क़िसमत में बेकरारी है -२
वो और होंगे जो जी का करार देखेंगे -२

अभी तो प्यार का इक ख़ाब हमने देखा है -२
गले में कब तेरी बाँहों का हार देखेंगे -२

तेरा मिलाप जिदाई से कम नहीं है सनम -२
तमाम उम्र तेरा इंतज़ार देखेंगे -२

ये आरज़ू थी कभी हम बहार देखेंगे

Comments/Credits:

			 % Song Courtesy: http://www.indianscreen.com
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image