Browse songs by

zaraa ruk ruk ke ... mai.n to dwaar chalii sakhii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ज़रा रुक रुक के ज़रा थम थम के
मैं तो द्वार चली सखी बालम के -२
ज़रा रुक रुक के हो ज़रा थम थम के
मैं तो द्वार चली सखी बालम के -२

मेरी अंखियों में धार है काजल की
धार काजल की
मेरी ज़ुल्फ़ों में लहर है बादल की
धार काजल की
मेरी पायल में सुर है सरगम के -२

हो ज़रा रुक रुक के हो ज़रा थम थम के
मैं तो द्वार चली सखी बालम के -२

मेरे दिल में लगन जब तेरी है
मेरे दिल में
मेरे दिल में लगन जब तेरी है
फिर ग़म क्या जो रात अंधेरी है
मेरी बिंदिया
हो मेरी बिंदिया का थय्या चम चम चमके

हो ज़रा रुक रुक के हो ज़रा थम थम के
मैं तो द्वार चली सखी बालम के -२

मैंने देखी है झलक इक साजन की
इक साजन की
अब प्यास बुझी मेरी अंखियन की
मेरी अंखियन की
जली जोत ख़ुशी की गये दिन ग़म के

हो ज़रा रुक रुक के हो ज़रा थम थम के
मैं तो द्वार चली सखी बालम के -२

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image