Browse songs by

ye vahii giit hai jisako mai.nne dha.Dakan me.n basaayaa hai

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ये वही गीत है, जिसको मैने, धड़कन में बसाया है
तेरे होंठों से इसको चुराकर, होंठों पे सजाया है
ये वही गीत है, ये वही गीत है

मैने ये गीत जब गुन-गुनाया,
सज गई है खयालों की महफ़िल
(प्यार के रंग आँखों में छाये,
मुस्कुराई उजालों की महफ़िल ) - २
ये वो नग़मा है जो ज़िंदगी में, रोशनी बनके आया है
तेरे होंठों से इसको चुराकर ...

मेरे दिल ने यही गीत गाकर, जब कभी तुझको आवाज़ दी है
फूल ज़ुल्फ़ों में अपनी सजाकर, तू मेरे सामने आ गई है - २
तुझे अक़्सर मेरी बेखुदी ने, सीने से लगाया है
तेरे होंठों से इसको चुराकर ...

Comments/Credits:

			 % Credits: rec.music.indian.misc (USENET newsgroup) 
%          Kannan Muthukkaruppan (mkannan@mahogany.CS.Berkeley.EDU)
%          C.S. Sudarshana Bhat (ceindian@utacnvx.uta.edu)
% Editor: Anurag Shankar (anurag@astro.indiana.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image