Browse songs by

ye laal ra.ng kab mujhe chho.Degaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ये लाल रंग कब मुझे छोड़ेगा
मेरा ग़म, कब तलक़, मेरा दिल तोड़ेगा
ये लाल रँग ...

किसी का भी लिया नाम तो, आई याद, तू ही तू
ये तो प्याला शराब का, बन गया, ये लहू
ये लाल रँग ...

पीने कि क़सम डाल दी, पीयूँगा किस तरह
ये ना सोचा तूने यार मैं, जीयूँगा किस तरह
ये लाल रँग ...

चला जाऊँ कहीं छोड़ कर, मैं तेरा ये शहर
यहाँ तो ना अमृत मिले, पीने को, ना ज़हर
हाय, ये लाल रँग ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Ravi Kant Rai (rrai@plains.nodak.edu)
% Credits: Rajiv Shridhar (rajiv@hendrix.coe.neu.edu)
% Editor: Anurag Shankar (anurag@)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image