Browse songs by

ye kaisaa sur\-mandir hai jisame.n sa.ngiit nahii.n

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image

ये कैसा सुर मन्दिर है जिस में संगीत नहीं
गीत लिखे दीवारों पे गाने की रीत नहीं

वीणा तेरी मेरी जैसे एक कहानी
इस घर में हम दोनों की किसी ने क़दर न जानी
तेरा भी कोई मीत नहीं मेरा भी मीत नहीं
ये कैसा सुर मन्दिर है ...

मूरत रख देने से क्या मन्दिर बन जाता है
यूँ ही पड़ा रहने से शीशा पत्थर बन जाता है
वो पूजा कैसी पूजा है जिस में प्रीत नहीं
ये कैसा सुर मन्दिर है ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image