Browse songs by

vo jo milate the kabhii ham se diivaano.n kii tarah

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


वो जो मिलते थे कभी हम से दीवानों की तरह
आज यूँ मिअल्ते हैं जैसे कभी पहचान न थी

देखते भी हैं तो यूँ मेरी निगाहों में कभी
अजनबी जैसे मिला करते हैं राहों में कभी
इस क़दर उनकी नज़र हम से तो अंजान न थी
वो जो मिलते थे कभी ...

एक दिन था कभी यूँ भी जो मचल जाते थे
खेलते थे मेरी ज़ुल्फ़ों से बहल जाते थे
वो परेशाँ थे मेरी ज़ुल्फ़ परेशान न थी
वो जो मिलते थे कभी ...

वो मुहब्बत वो शरारत मुझे याद आती है
दिल में इक प्यार का तूफ़ान उठा जाती थी
थी मगर ऐसी तो उलझन में मेरी जान न थी
वो जो मिलते थे कभी ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image