Browse songs by

tuu mere saamane hai terii zulfe.n hai.n khulii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


(तू मेरे सामने है
तेरी ज़ुल्फ़ें हैं खुली
तेरा आँचल है ढला
मैं भले होश में कैसे रहूँ) - २

तू मेरे सामने है ...

तेरी आँखें तो छलकते हुए पैमाने हैं
और तेरे होंठ लरजते हुए मैखाने हैं
मैं भला होश में कैसे रहूँ, कैसे रहूँ
तू मेरे सामने है ...

तू जो हँसती है तो बिजली सी चमक जाती है
तेरी साँसों से ग़ुलाबों की महक आती है
तू जो चलती है तो कुदरत भी बहक जाती है
मैं भला होश में कैसे रहूँ, कैसे रहूँ
तू मेरे सामने है ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar 
% Date: 02/20/1997
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image