Browse songs by

tumhaarii nazar kyo.n khafaa ho ga_ii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


तुम्हारी नज़र क्यों खफ़ा हो गई
खता बख्श दो गर खता हो गई
हमारा इरादा तो कुछ भी न था
तुम्हारी खता खुद सज़ा हो गई
तुम्हारी ...

(सज़ा ही सही आज कुछ तो मिला है
सज़ा में भी इक प्यार का सिलसिला है ) - २
मोहब्बत का कुछ भी अन्जाम हो
मुलाक़ात ही इल्तजा हो गई
तुम्हारी ...

(मुलाक़ात पे इतने मगरूर क्यों हो
हमारी खुशामद पे मजबूर क्यों हो ) - २
मनाने की आदत कहां पड़ गई
खताओं की तालीम क्या हो गई
तुम्हारी ...

आ ...
(सताते न हम तो मनाते ही कैसे
तुम्हें अपने नज़दीक लाते ही कैसे ) - २
किसी दिन की चाहत अमानत ये थी
वो आज दिल की आवाज़ हो गई
तुम्हारी ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Anurag Shankar 
% Credits: Vishal Ailawadhi 
%          Renu Thamma 
%          Neha Desai 
%          Neeraj Malhotra 
% Editor: Rajiv Shridhar 
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image