Browse songs by

tumhaarii mast nazar gar idhar nahii.n hotii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


तुम्हारी मस्त नज़र, अगर इधर नहीं होती
नशे में चूर फ़िज़ा इस क़दर नहीं होती

तुम्हीं को देखने की दिल में आरज़ूएं हैं
तुम्हारे आगे ही और ऊँची नज़र नहीं होती

ख़फ़ा न होना अगर बढ़ के थाम लूँ दामन
ये दिल फ़रेब ख़ता जान कर नहीं होती

तुम्हारे आने तलक हम को होश रहता है
फिर उस के बाद हमें कुछ खबर नहीं होती

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image