Browse songs by

tum ko furasat ho merii jaan to idhar dekh to lo

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


तुम को फ़ुर्सत हो मेरी जान तो इधर देख तो लो
चार आँखें न करो, एक नज़र देख तो लो

बात करने के लिए, कौन तुम्हें कहता है
न करो हमसे कोई बात मग़र देख तो लो

अपने बीमार-ए-मोहब्बत की तसल्ली के लिए
हाल-ए-दिल पूछ तो लो, ज़ख़्म-ए-जिगर देख तो लो

दिल-ए-बर्बाद को आबाद करो या न करो
कम से कम तुम मेरा उजड़ा हुआ घर देख तो लो

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar 
% Date: 04/15/1997
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image