Browse songs by

terii umr hai solah bulabul sii chahake

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


तेरी उम्र है सोलह बुलबुल सी चहके
तेरे होंठ रसीले तू फूल सी महके
ओ काला डोरिया किस कुण्डे डोले
ये कौन सा भंवरा तेरा घूंघट खोले
ओ काला डोरिया मुंह से न बोले ओय
नसीबों वाला मेरा घूंघट खोले
लारी लप्पा ओए ओए हणी टप्पा ओए ओए

हो काला डोरिया कहंदा है इशारों में
कली चम्पे की तू खिल गई बहारों में
देखी मैने सोलह बहारें सोलह बहारें खुश्बू वारें
बरसी सब पर प्रेम फुहारें पर ना छिड़ी मेरी मन की तारें
बल्ले बल्ले ओ शावा शावा ओ बल्ले
मेरी नज़रों को लग जाएगा प्यारा नी
बहारें लूटेगा सब वो बंजारा नी
ओ काला डोरिया ...

नी कुड़िये आह होए सोणिये आह आए
ओ काला डोरिया किल्ली पे लटका है
कली चम्पे की तेरा दिल किस पे अटका है
दिल का क्या है दिल तो दीवाना प्यार का ये ढूंढे बहाना
मैं भी गाऊं प्रेम का तराना मिल जाए मैनूं मस्ताना
मुहब्बत की कोई सोणी तस्वीर बनूं कोई रांझा मिल जाए तो मैं हीर बनूं
ओ काला डोरिया ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image