Browse songs by

terii baa.Nho.n me.n jo guzarii bhiigii raat sanam

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


( तेरी बाँहों में -२
जो गुज़री
भीगी रात सनम -२ ) -२
याद बहुत आती है -२
हर पल वो बरसात सनम
तेरी बाँहों में -२
जो गुज़री
भीगी रात सनम -२

ऊ मीठे-मीठे सपनों में तू खोई थी
मेरे सीने पे सर रख के सोई थी
इतने में बादल गरज़ा बिजली भी लहराई
ऐसे में तू डर के मेरे और पास चली आई
मैने चुन लिया -२
तेरा नाज़ुक हाथ सनम
तेरी बाँहों में हाय
तेरी बाँहों में
जो गुज़री
भीगी रात सनम -२

रोका मैने तुझको मैं दीवाना था
मगर तुझे अपने घर जाना था
वो बेताबी के लम्हे वो मस्ताना आलम
सोचता हूँ आ जाए फिर कभी ऐसा मौसम
भूला नहीं मैं -२
तेरी कोई
बात सनम -२
तेरी बाँहों में हाय
तेरी बाँहों में
जो गुज़री
भीगी रात सनम -२
याद बहुत आती है -२
हर पल वो बरसात सनम
हो
तेरी बाँहों में -२
जो गुज़री
भीगी रात सनम -३

Comments/Credits:

			 % producer: Gulshan Kumar
% audio: Super Cassettes Industries Ltd, T Series, www.t-series.com
% cassette: SHNC 01/2528 Gold Stereo, Cost: Rs 55/-, CD:
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image