Browse songs by

suniye to rukiye to kyo.n hai.n Kafaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


सुनिये तो, रुकिये तो, क्यों हैं ख़फ़ा, कहिये तो
ऐसी क्या जळी जाने की
दीवाना, हूँ माना, सुनिये दीवाने की

ये शाम का दिलकश मंज़र
ये साहिल और समंदर
कहते हैं आप ना जाएं
हम पर ये क़रम फ़रमायें
सुनिये तो, कहती हैं बलखाती लहरें
आप कुछ देर तो ठहरें ...

इठलाती शोख़ हवाएं
भीगी रंगीन फ़िज़ाएं
जो आप को देखे जाएं
तो सीखे और अदाएं
सुनिये तो, ये ज़ुल्फ़ें जो देखे बादल
सारे बरस बरसे वो पागल ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image