Browse songs by

siilii havaa chhuu ga_ii, siilaa badan chhil gayaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


सीली हवा छू गई सीला बदन छिल गया -२
गीली नदी के परे गीला सा चांद खिल गया
सीली हवा छू गई सीला बदन छिल गया

तुमसे मिली जो ज़िंदगी हमने अभी खोई नहीं -२
तेरे सिवा कोई न था तेरे सिवा कोई नहीं
सीली हवा छू गई सीला बदन छिल गया

होऽ हऽ
जाने कहाँ कैसे शहर ले के चला ये दिल मुझे -२
तेरे बग़ैर दिन ना जला तेरे बग़ैर शब ना बुझे
सीली हवा छू गई सीला बदन छिल गया

जितने भी तय करते गये बढ़ते गये ये फ़ासले -२
मीलों से दिन छोड़ आये सालों से रात ले के चले
सीली हवा छू गई सीला बदन छिल गया
गीली नदी के परे गीला सा चांद खिल गया
ल ल ल ल ला ल ल -२

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Ravi Kant Rai (rrai@ndsun.cs.ndsu.nodak.edu)
% Editor: Anurag Shankar (anurag@astro.indiana.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image