Browse songs by

shukriyaa hastii kaa lekin tumane ye kyaa kar diyaa - - Saigal

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


शुक्रिया हस्ती का लेकिन तुमने ये क्या कर दिया
अरे पर्दे ही पर्दे में अपना राज़ अफ़्शा कर दिया

माँग कर हम लाये थे अल्लाह से एक दर्द-ए-इश्क़
वो भी अब तक़दीर ने औरों का हिस्सा कर दिया

दो ही अंगारे थे हाथों में ख़ुदा-ए-इश्क़ के
एक को दिल एक को मेरा कलेजा कर दिया

मैं तो अपनी बेख़ुदी-ए-शौक़ क ममनून हूँ
बारहा मुझ को भरी महफ़िल में तन्हा कर दिया

मरहमत फ़रमा के ऐ सीमाब ग़म की लज़्ज़तें
ज़ीस्त की तल्ख़ी को फ़ितरत ने गवारा कर दिया

Comments/Credits:

			 % Date: July 15, 1999
% Credits: Urzung Khan
% Comments: afshaa = to reveal
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image