Browse songs by

sapt suran tiin graam, una.nchaas koTi taan

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


सप्त सुरन तीन ग्राम, उनंचास कोटि तान
गुनिजन सब करत ध्यान नाद ब्रह्म जाके
सप्त सुरन तीन ग्राम ...

सुर अलाप अलंकार
मूर्छना विविध प्रकार
कल-कल ज्यों जल की धार
ठुमक चलत आगे, ठुमक चलत आगे, ठुमक चलत आगे
सप्त सुरन तीन ग्राम ...

जीवन को गीत जान
साँस साँस जैसे तान
हर धड़कन लय समान
हर पल प्रभु आगे, हर पल प्रभु आगे, हर पल प्रभु आगे
सप्त सुरन तीन ग्राम ...

गुरू ब्रह्मा गुरूर विश्णु, गुरू देवो महे{श}वरः
गुरू साक्षात परब्रह्मा तस्मैस्री गुरवेनमः

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image