Browse songs by

saath kisii ke koii kab aataa hai

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


साथ किसीके कोई कब आता है
साथ किसीके कब जाता है
पल दो पल का साथ सभी का
पल दो पल का नाता है

कच्चे घड़े जैसी ये दुनिया
पार किसी को तारे क्या
खुद ही सहारा ढूँधने वाले
तुझको देंगे सहारे क्या -२

जो न मिले क्या उसका गम
जब मिले हुए खो जाते हैं
सपने नहीं जिस नींद के अंदर
ऐसी नींद सो जाते हैं -२

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar (rajiv@hendrix.coe.neu.edu)
% Date: Fri Jan 26 1996
% Credits: Preetham Gopalaswamy (preetham@connectinc.com)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image