Browse songs by

saare zamaane pe ... aap aa_e bahaar aa_ii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


( सारे ज़माने पे मौसम सुहाने पे
इस दिल दीवाने पे वीरानी सी थी छाई
आप आए बहार आई ) -२

आपका ही था सबको इंतज़ार -२
आपके लिए सब थे बेक़रार
हवाएँ घटाएँ फ़िज़ाएँ
बाग़ों में फूलों ने ली झूम के अंगड़ाई
आप आए बहार ...

आपने किया आ के एहसान -२
था ये वीराना अब है गुलिस्तान
पुकारें नज़ारे ये सारे
गुलशन की गलियों से कलियों से सुनिए आवाज़ ये आई
आप आए बहार ...

लीजिए ना बस अब जाने का नाम -२
रूठ जाएँगे जलवे ये तमाम
ये बस्ती ये मस्ती ये हस्ती
ऐसा ना हो जाए बन जाए ये महफ़िल फिर तन्हाई
आप आए बहार ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image