Browse songs by

saare jahaa.N kii amaanat hai ye

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


जीवन मिटाना है दीवानापन
कोई प्यार जीवन से प्यारा नहीं
प्यारा नहीं
आ, ह हा अहा

सारे जहाँ की अमानत है ये
ये जीवन तुम्हारा तुम्हारा नहीं
हैं जीने के लाखों सहारे यहाँ
बस एक ही तो सहारा नहीं
आ, ह हा अहा

अगर कोई दुनिया से रूठे तो क्या
कोई फूल खिलते ही टूटे तो क्या
सितारे हज़ारों हैं आकाश पर
बस एक ही तो सितारा नहीं
आ, ह हा अहा

किसी के इरादों के ख़ातिर जियो
किसी के मुरादों के ख़ातिर जियो
है यादों में जीना भी तो ज़िंदगी
जीना तुम्हें क्यों गवारा नहीं
आ, ह हा अहा

कैसी उदासी है कैसा है सोग
जीवन में आते हैं जाते हैं लोग
नया कोई साथी खड़ा राहों में
उसे प्यार से क्यों पुकारा नहीं
आ, ह हा अहा

Comments/Credits:

			 % Transliterator : K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image