Browse songs by

saa.Njh Dhalii dil kii lagii thak chalii pukaar ke

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


म : ( साँझ ढली दिल की लगी थक चली पुकार के
आ जा, आ जा, आ भी जा
आ : क्या दूँ पहले से मैं बैठी हूँ दिल हार के
जा जा, जा जा, जा तू जा ) -२

म : ज़िद पे आ गया है दिल के आज यूँ न लौटना
आ : मेरी सुनो लौट जाओ छोड़ दो ये बचपना
म : चार दिन की ज़िंदगी में दिन हैं दो बहार के

आ जा, आ जा, आ भी जा
आ : ए हे हे हे
क्या दूँ पहले से मैं बैठी हूँ दिल हार के
जा जा, जा जा, जा तू जा

म : आ आ
आ : जा जा

कैसे कहूँ कैसी उलझनों में मेरी जान है
म : ओ हो हो
हाँ को ना समझ गये ये प्यार की ज़ुबान है
आ : काटने हैं दिन हमें किसी के इंतज़ार के

जा जा, जा जा, जा तू जा
म : ओ हो हो हो
साँझ ढली दिल की लगी थक चली पुकार के
आ जा, आ जा, आ भी जा
आ : ए ए ए ए
क्या दूँ पहले से मैं बैठी हूँ दिल हार के
जा जा, जा जा, जा तू जा

म : सुन तो ले के मेरे दिल का तुझसे क्या सवाल है
आ : कुछ न कर सकूँगी मैं इसी का तो मलाल है
म : दिल न तोड़ चाहे बोल दो ही बोल प्यार के

आ जा आ जा, आ भी जा
आ : क्या दूँ पहले से मैं बैठी हूँ दिल हार के
जा जा, जा जा, जा तू जा
म : साँझ ढली दिल की लगी थक चली पुकार के
आ जा, आ जा, आ भी जा
आ : जा जा, जा जा, जा तू जा
म : आ जा आ जा
आ : जा तू जा

Comments/Credits:

			 % Song Courtesy: http://www.indianscreen.com
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image