Browse songs by

rut alabelii mast samaa.N saath hasii.n har baat javaa.N

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


रुत अलबेली मस्त समाँ
साथ हसीं हर बात जवाँ
हवा का आँचल बड़ा है चंचल
धीरे-धीरे गाए मन तेरी क़सम

इन मचलते पानियों में सुन गुनगुनाते साहिलों की धुन
रुत हसीं हम जवां हाय तौबा
नाज़नीं जो कोई हँस पड़ी मोतियों की खुल गई लड़ी
लाजवाब है क्या शबाब हाय तौबा
रेशमी नज़र पड़ गई जिधर खिल गई दुनिया
अरे रुत अलबेली मस्त समाँ ...

ये महल न देखे कहीं आसमाँ को चूमे ज़मीं
क्या ख़्याल है बेमिसाल हाय तौबा
आरज़ू लिए निग़ाह में मंज़िलें बुलाएं राह में
इंतज़ार में बेक़रार हाय तौबा
ख़्वाब तो नहीं यह ज़मीं कहीं ख़ूब है ये दुनिया
अरे रुत अलबेली मस्त समाँ ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image