Browse songs by

raat ke hamasafar, thak ke ghar ko chale

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


रात के हमसफ़र, थक के घर को चले
झूमती आ रही है सुबह प्यार की
देख कर सामने, रूप की रोशनी
फिर लुटी जा रही है सुबह प्यार की

रात ने प्यार के जाम भर कर दिये
आँखों आँखों से जो मैं ने तुमने पिये
होश तो अब तलक़ जा के लौटे नहीं
जाने क्या ला रही है सुबह प्यार की
रात के हमसफ़र ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image