Browse songs by

pyaas thii phir bhii taqaazaa na kiyaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


प्यास थी फिर भी तक़ाज़ा न किया
जाने क्या सोचके ऐसा न किया

बढ़के हाथों पे उठा लेना था
तुझको सीने से लगा लेना था
तेरे होंठों से तेरे गालों से
मुझको हर रंग चुरा लेना था
जाने क्या सोचके ऐसा न किया

हाथ आँचल से जो टकरा जाता
एक रंगीन नशा सा छा जाता
तेरे सीने पे खुली ज़ुल्फ़ों को
चूम लेता तो क़रार आ जाता
जाने क्या सोचकर ऐसा न किया

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Arunabha S Roy
% Date: 15 Sep 2003
% Series: GEETanjali
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image