Browse songs by

po.nchh kar ashq apanii aa.Nkho.n se

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


पोंछ कर अश्क़ अपनी आँखों से
मुस्कुराओ तो कोई बात बने
सर झुकाने से कुछ नहीं होग
सर उठाओ तो कोई बात बने

ज़िंदगी भीख में नहीं मिलती
ज़िंदगी बढ़ के छीनी जती है
अपना हक़ संगदिल ज़माने से
चीन पाओ तो कोई बात बने
पोंछ कर अश्क़/...

रंग और भेद जात और मज़हब
जो भी हो आदमी से कमतर है
इस हक़ीक़त को तुम भी मेरी तरह
मान जाओ तो कोई बात बने
पोंछ कर अश्क़/...

नफ़रतों के जहाँ में हमको
प्यार की बस्तियाँ बसानी है
दूर रहना कोई कमाल नहीं
पास आओ तो कोई बात बने
पोंछ कर अश्क़/...

Comments/Credits:

			 % Transliterator:Balaji Murthy
% Credits:Srinivas Ganti
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image