Browse songs by

phir se a_iyo badaraa bidesii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


फिर से अइयो बदरा बिदेसी
तेरे पंखों पे मोती जड़ूँगी
भर के जइयो हमारी कलैया
मैं तलैया के नारे मिलूँगी
तुझे मेरे काले कमली वाले की सौं

तेरे जाने की रुत मैं जानती हूँ
मुड़ के आने की रीत है कि नहीं
हो~ काली दर्गाह से पूछूँगी जाके
तेरे मन में भी प्रीत है कि नहीं
कच्ची पुलिया से होके गुजरियो
कच्ची पुलिया के नारे मिलूँगी..

तू जो रुक जाए मेरी अटरिया
मैं अटरिया पे झालर लगा दूँ
डालूँ चार ताबीज़ गले में
अपने काजल से बिंदिया लगा दूँ
छूके जइयो हमारी बगीची
मैं पीपल के आड़े मिलूँगी..

Comments/Credits:

			 % Contributor: Vinay P Jain
% Transliterator: Vinay P Jain
% Date: Dec 8, 2002
% Series: Tere Hamsafar Geet Hain Tere (THGHT)
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image