Browse songs by

phir ko_ii muskaraayaa phir ek phuul khilaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


फिर कोई मुस्कराया फिर एक फूल खिला
कोई बुलाए और कोई आए अब दिल चाहे क्या
फिर कोई मुस्कराया ...

ज़िन्दगी फिर वही गीत गुनगुनाने लगी
इस गली झूमती बहार आने लगी
फिर कोई मुस्कराया ...

दिल मेरे झूम ले याद कर के इस शाम को
बहके हम जिस घड़ी पी के प्यार के जाम को
फिर कोई मुस्कराया ...

होना है आज फिर अपने सब्र का इम्तिहाँ
लूटना है तुमको फिर आज मेरा दिल मेरी जाँ
फिर कोई मुस्कराया ...

फिर से वही हलचल हसरतें मचलने लगीं
फिर वो शोख़ियाँ नग़्मा बन के ढलने लगीं
फिर कोई मुस्कराया ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image