Browse songs by

phir koii aayaa ... ab yahaa.N koii nahii.n koii nahii.N aayegaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


फिर कोई आया, दिल-ए-ज़ार? नहीं कोई नहीं
राह्रौ होगा, कहीं आऊऱ चला जायेगा
ढल चुकी रात, बिखर्ने लगा तारों का ग़्हुबार
लड़्खड़ाने लगे ऐवानों में ख़्ह्वाबेएद चिराग़्ह
सो गयी रास्त तक-तक के हर इक राह्गुज़र
अज्नबी ख़्हाक ने धुँध्ला दिये क़द्मों के सुराग़्ह
गुल करो शम'एं, बढ़ा दो मै-ओ-मेएना-ओ-अयाग़्ह
अप्ने बेख़्ह्वाब किवाड़ों को मुक़फ़्फ़ल कर लो
अब यहाँ कोई नहीं, कोई नहीँ आयेगा

Comments/Credits:

			 % Transliterator: UVR (uvr@usa.not)
% Date: 28th September 2002
% Credits: V S Rawat
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image