Browse songs by

o kanhayyaa ... aaj panaghaT pe hai terii raadhaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ओ कन्हैया -२
कन्हैया -४
ओ ( कन्हैया ) -३ आज पनघट पे है ( तेरी राधा अकेली खड़ी ) -२
ओ कन्हैया ...

मन ये कहता है अब ना पुकारूँ तुझे
प्यार कहता है कैसे बिसारूँ तुझे
प्रीत की रीत कैसे बदल दूँ भला
नैन कहते हैं हरदम निहारूँ तुझे
( आ भी जा साँवरे ) -२ ( फिर छेड़ दे ) -२ रे वही बाँसुरी
ओ कन्हैया ...

मन के मंदिर में मैने बिठाया तुझे
अपना सब कुछ ही मैने बनाया तुझे
तेरी पूजा में मैं तो रही रे मगन
और भगवान बनना न आया तुझे
( आ भी जा साँवरे ) -२ ( फिर छेड़ दे ) -२ रे वही बाँसुरी
ओ कन्हैया ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image