Browse songs by

niile ambar ke tale, do yahaa.N saathii mile

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


नीले अम्बर के तले
दो यहां साथी मिले
झलके झलके अरमान मिलाके लेकर बसाने घर चले
नीले अम्बर के तले

हर घड़ी बिन रैना
चैन अब आए ना
मन कहे मेरा साथी अब कहीं जाए ना
ये मिलन में कोई अब शाम न ढले
नीले अम्बर के तले ...

ज़िन्दगी में ऐसे दिन कभी आते हैं
रस्मों के बंधन में मीत बंध जाते हैं
फिर मजके उठे हैं तन के फूल खिले
नीले अम्बर के तले ...

Comments/Credits:

			 % Credits: Surendra Pothuru (spothuru@ponder.csci.unt.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image