Browse songs by

niil gagan kii chaa.Nv me.n

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


नील गगन की चाँव में दिन रैन गले से मिलते हैं
मन पंछी बन उड़ जाता है हम खोये-खोये रहते हैं
आऽ

जब फूल कोई मुस्काता है ... आ जाती है
नस-नस में भँवर सा उठता है

कहता है समय का उजियारा इक चन्द्र भी आने वाला है
इन जोत की प्यासी अंखियों को आँखों से पिलाने वाला है
जब पात हवा में झरते हैं हम चौँक के राहें तकते हैं
मन पंछी बन उड़ जाता है हम खोये-खोये रहते हैं
आऽ

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image