Browse songs by

nigaahe.n ruk ga_ii.n ... kaise baje dil kaa sitaar

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


श : निगाहें रुक गईं हाय कहाँ पर
तड़प कर रह गया नग़मा ज़ुबाँ पर
र : धुआँ सा उठ रहा है आसमाँ पर
गिरी बिजली किसी के आशियाँ पर

श : कैसे बजे दिल का सितार
ठेंस लगी टूट गये तार
र : बीता हुआ जीवन का प्यार
हाय कोई आज गया हार

श : ( दिल कहीं आवाज़ कहीं
नग़मा कहीं साज़ कहीं ) -२
र : देख ये घबराई नज़र -२
खोल न दे राज़ कहीं -२
श : ओ
आज कहे दिल बार-बार
नइया मेरी कैसे लगे पार

र : ( दिल में छुपाये हुये ग़म
कैसे रहूँ रह ना सकूँ
श : टूट पड़े मुझ पे सितम
और मैं कुछ कह ना सकूँ ) -२
र : ओ
गीत में है दिल की पुकार
गाये जा तू साजन के द्वार

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image