Browse songs by

naa jaane kyo.n mai.n bekaraar

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ना जाने क्यों मैं बेकरार दिल में लिए दर्द-ए-इंतज़ार
बैठा हूँ उस राह में जो मेरी मंज़िल नहीं

कहती है रात ये हँस हँस के मुझसे कोई वहां नहीं आएगा चल
शायद कोई मिल जाए कहीं पे सोयी हुई गलियों से निकल
शायद कोई दीपक जले चूड़ी बजे परदा हटे
और कोई खिड़की खुल जाए कब
ना जाने क्यों मैं ...

धड़कन सुनूं तो लगता है ऐसा जैसे कहे मुझसे तेरा प्यार
गर्दन झुका और कर ले नज़ारा तुझमें सजी है तस्वीर-ए-यार
तन्हाई की घड़ियां न गिन ऐसा भी क्या निकले ना दिन
ना मेरी जां ऐसी कोई रात नहीं
ना जाने क्यों मैं ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image