Browse songs by

na jaane kaisii burii gha.Dii me.n ... arthii nahii.n naarii kaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


न जाने कैसी बुरी घड़ी में दुल्हन बनी एक अभागन
पिया की अर्थी लेकर चली होने सती सुहागन

अर्थी नहीं नारी का सुहाग जा रहा है
भगवान तेरे घर का सिंगार जा रहा है

बजता था जीवन का गीत दो साँसों के तारों में
टूटा है जिसका तार वो सितार जा रहा है
भगवान तेरे घर का ...

जलता था जब तक जलती रही चिंगारी
बुझने को अब तन का अंगार जा रहा है
भगवान तेरे घर का ...

भव सागर की लहरों में बिछड़े ऐसे दो साथी
सजनी मँझधार साजन उस पार जा रहा है
भगवान तेरे घर का ...

Comments/Credits:

			 % Comments: This song is in the background.
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image