Browse songs by

na ha.Nso ham pe zamaane ke hai.n Thukaraae hue

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


न हँसो हम पे ज़माने के हैं ठुकराए हुए
दर-ब-दर फिरते हैं तक़दीर के बहकाए हुए
न हँसो हम पे ...

क्या बताएँ तुम्हें कल हम भी चमन वाले थे
ये न पूछो कि है वीराने में क्यों आए हुए
न हँसो हम पे ...

बात कल की है कि फूलों कोमसल देते थे
आज काँटों को भी सीने से हैं लिपटाए हुए
न हँसो हम पे ...

ऐसी गर्दिश में न डाले कभी क़िस्मत तुम को
आप के सामने जिस हाल में हैं आए हुए
न हँसो हम पे ...

एक दिन फिर वही पहली सी बहारें होंगी
इस उम्मीद पे हम दिल को हैं बहलाए हुए
न हँसो हम पे ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Nita Awatramani
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image