Browse songs by

merii zi.ndagi ke chiraaG ko terii beruKii ne bujhaa diyaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


मेरी ज़िंदगि के चिराग़ को तेरी बेरुख़ी ने बुझा दिया
तेरे रास्ते की मैं ख़ाक हूँ मुझे आज तूने बसा दिया

तुझे पाके भी तेरी जुस्तुजू तुझे मिलके भी तेरी आर्ज़ू
तेरे पास लाके नसीब ने मुझे कितनी दूर हटा दिया

तू वो फूल जिसमें वफ़ा नहीं मैं वो दर्द जिसकी दवा नहीं
तुझे देखकर जो ये लब हँसे तेरी आर्ज़ू ने रुला दिया

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Arunabha S. Roy
% Comments: GEETanjali Series; September 16, 2002
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image