Browse songs by

merii duniyaa luT rahii thii aur mai.n Kaamosh thaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


मेरी दुनिया लुट रही थी और मैं खामोश था
टुकड़े टुकड़े दिल के चुनता किस को इतना होश था

आँख में आँसू न थे और जल रहा था दिल जिगर
रो रही थी हसरतें चुप-चाप था मैं बेखबर
कैसे आता होश में जो पहले ही बेहोश था
टुकड़े टुकड़े दिल के चुनता ...

करवाँ दिल का लुटा बैठा हूँ मंज़िल के क़रीब
मैं ने खुद कश्ती डुबो दी जाके साहिल के क़रीब
ये ज़मीं चुप-चाप थी और आसमाँ खामोश था
टुकड़े टुकड़े दिल के चुनता ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image