Browse songs by

man ma.ndir ke devataa raakho laaj hamaarii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


{आलाप}
मन मंदिर के देवता-२
राखो लाज हमारी
मन मंदिर के देवता
असुअन माला लेके पुजारन-२
आई शरन तिहारी
मन मंदिर के देवता
राखो लाज हमारी
मन मंदिर के देवता

{जग का रिश्ता झूठा रिश्ता
साँस के संग ही छूटे}-२
प्रीत का बंधन ऐसा बंधन
मर के भी नहीं टूटे
दोनों रिश्ते कैसे निभाऊँ-२
लाख जतन कर हारी
मन मंदिर के देवता
राखो लाज हमारी
मन मंदिर के देवता

{तन का मालिक बस ये चाहे
मन में आग लगा दूँ}-२
एक मंदिर में करूँ मैं पूजा
एक मंदिर को ढा दूँ
अपने मन से कैसे मिटा दूँ
बोलो याद तुम्हारी
मन मंदिर के देवता
राखो लाज हमारी
मन मंदिर के देवता
ओ देवता -४

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Pulkit Sharma(pulkit_sadabahar@yahoo.com)
% Date: 28 may 2004
% Series: NOOR-E-TARANNUM
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image