Browse songs by

man aanand aanand chhaayo

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


मन आनन्द आनन्द छायो
मिट्यो गगन घन अंधकार
अँखियन में जब सूरज आयो
मन आनंद ...

उठी किरण की लहर सुनहरी
जैसे पावन गंगाजल
अर्पण के पल हर सिंगार मधु
गीत सिंदूरी गायो
मन आनंद ...

ऐसी पीड़ रही मन में तो
असुवन हाथ बिकानी
आँसुओं से भये बिनसूरि (?)
रोम रोम मुस्कायो
मन आनंद ...

मान सरोवर मगन कम्पन
नभदर्पन की झांकी
ता में अबिकल अधखुल लोचन
प्राणहँस उतर आयो
मन आनंद ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Ashok M. Dhareshwar (ADhareshwar@WorldBank.org)
% Date: Wed Jan 17, 1996
% Editor: Rajiv Shridhar (rajiv@hendrix.coe.neu.edu)
% Comments:  Lovely classical song from a Govind Nihalani film.
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image