Browse songs by

mai.n dukh kii raat huu.N aisii saveraa duur hai jisakaa - - Talat

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


मैं दुख की रात हूँ ऐसी
सवेरा दूर है जिसका

है मेरी राह भूली सी
क़दम भी डगमगाते हैं
मेरे सपने अधूरे से
मुझे रह-रह बुलाते हैं
मैं पनछी पंख बिन ऐसा
बसेरा दूर है जिसका

ये मेरी ज़िंदगी गुज़री है
तूफ़ानों के सीने से
जवानी बुझ गई है ग़म के
खारे अश्क़ पीने से
मैं ग़म का वो समन्दर हूँ
किनारा दूर है जिसका

Comments/Credits:

			 % Song Courtesy: http://www.indianscreen.com
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image